- Advertisment -
HomeNationalइंसानियत शर्मसार: पीएम कक्ष में शव के साथ की ये हरकत ...

इंसानियत शर्मसार: पीएम कक्ष में शव के साथ की ये हरकत इंसानियत शर्मसार: पीएम कक्ष में शव के साथ की ये हरकत Indian_Samaachaar

- Advertisment -
- Advertisement -

शव को पोस्टमार्टम के लिए पीएम कक्ष में रखा गया था, जब शव मिला तो कान से सोने की बालियां गायब थीं. अंतिम संस्कार के बाद ग्रामीण फिर अस्पताल पहुंचे और सिविल सर्जन से शिकायत की। इसके बाद वे पुलिस से शिकायत करने लगे, तभी कान की बाली निकालने वाले व्यक्ति ने कान की बाली गांव वालों को लौटा दी। इससे मामला पुलिस तक तो नहीं पहुंचा, लेकिन जिला अस्पताल में हुई इस घटना ने मानवीय संवेदनाओं को आहत किया है.

जिले के रामड़ी में 25 नवंबर को सोनू के पिता लच्छीराम को उनके खेत में करंट लग गया था. उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। शव का पोस्टमार्टम होना था। ऐसे में कर्मचारियों द्वारा शव को पीएम कक्ष ले जाया गया. जब पीएम के बाद शव परिजनों को सौंपा गया तो देखा कि पीएम के लिए ले जाने से पहले शव के कान में सोने की बाली थी, जो अब नहीं थी। ग्रामीणों ने शव का अंतिम संस्कार कर दिया। इसके बाद मंगलवार की शाम जिला अस्पताल पहुंचकर इसकी जानकारी सिविल सर्जन को दी गई. साथ ही कहा कि अगर मामला नहीं सुलझता है तो हमें पुलिस के पास जाना पड़ेगा। इस पर सिविल सर्जन ने उनसे पुलिस में शिकायत करने को भी कहा। ग्रामीण पुलिस के पास पहुंचते, लेकिन इससे पहले ही शव के कान से बाली निकालने वाले व्यक्ति ने ग्रामीणों को बाली लौटा दी। ऐसे में ग्रामीण पुलिस से शिकायत किए बिना ही लौट गए। हालांकि मामले में सिविल सर्जन ने संबंधित कर्मचारी को हटा दिया।

तस्वीर देखते ही खुला मामला
हादसे के बाद ग्रामीणों ने मोबाइल से सोनू की तस्वीर ले ली थी। इसके बाद जब शव को पीएम के लिए ले जाया जा रहा था तब भी परिजनों ने उसकी फोटो मोबाइल में ले ली थी। पीएम के बाद जब शव परिजनों ने लिया तो देखा कि सोने की बाली गायब थी। इसके बाद ग्रामीणों ने गांव में जाकर अंतिम संस्कार किया और मंगलवार की शाम अस्पताल प्रबंधन से शिकायत की.

संबंधित गिरा दिया है
शव के कान से सोने की बाली गायब होने की बात रामदी के लोगों ने बताई थी। इसके चलते ग्रामीणों को पुलिस से शिकायत करने के लिए भी कहा गया। संबंधितों को भी बाहर कर दिया गया। हमें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि कर्मचारी ने कान की बाली लौटाई या नहीं।
– डॉ बीएस मैना, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल-शाजापुर

- Advertisement -
Latest News & Updates
- Advertisment -

Today Random News & Updates